एक और उत्सर्ग

BabaNaganath

कौशल किशोर (Follow @HolyGanga)

गंगा मुक्ति कार्यक्रम के प्रणेता बाबा नागनाथ के अंत की दास्तान अत्यंत दुखद है। वाराणसी में जनमे और पले-बढ़े नागनाथ तिवारी गंगापुत्र निगमानंद की परंपरा के सत्याग्रही संत थे। मणिकर्णिका घाट पर स्थित मठ में उन्होंने 19 जुलाई, 2008 को गंगा मुक्ति के लिए उपवास शुरू किया था। अंत में यह आमरण अनशन साबित हुआ। नागनाथ का संकल्प था, ‘जब तक गंगा बांधों और प्रदूषण के प्रकोप से मुक्त नहीं होगी, तब तक मैं अन्न नहीं ग्रहण करूंगा।’ इस अनशन के दौरान बार-बार उनकी हालत बिगड़ती रही। प्रशासन की मेहरबानी से वे अस्पताल और मठ के बीच झूलते रहे। आखिरकार इस हफ्ते उनकी तपस्या का अंत भी निगमानंद की तरह गहन चिकित्सा कक्ष में हुआ। पिछले तीन सालों में गंगा की अस्मिता के लिए यह दूसरा बलिदान है।

उनकी शहादत से गंगा मुक्ति आंदोलन को बड़ा झटका लगा है। बाबा ने नरेंद्र मोदी की जीत और उनके प्रधानमंत्री बनने पर सुखद आश्चर्य व्यक्त किया था। सोलह मई को अच्छे दिन शुरू होने की कल्पना से वे अभिभूत हो उठे थे। उन्हें उम्मीद जगी थी कि नई सरकार अविरल गंगा और निर्मल गंगा का लक्ष्य साधने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। पर मोदी सरकार के पहले बजट में कोई सकारात्मक संकेत न पाकर वे बेहद दुखी हुए। हिमालय में सुरंगों का जाल और रेल लाइनों का जंजाल फैलने से होने वाली समस्याएं उन्हें सताने लगी थीं। इस गम से वे उबर नहीं सके और इस दुनिया को अलविदा कह गए। गांधीवादी सत्याग्रही का यह दर्दनाक अंत भारतीय संविधान की मूल भावनाओं पर कठोर आघात का प्रतीक ही माना जाएगा।

तीन साल पहले विदेश में जमा कालाधन और जन लोकपाल आंदोलन से तप रहे देश में निगमानंद की शहादत के बाद बड़ा हंगामा हुआ। पर बाबा नागनाथ हमेशा की तरह हाशिये पर रहे। किसी ने भी उनकी सुध नहीं ली। पर काशी की धरती बाबा नागनाथ और स्वामी सानंद को कभी भूल नहीं सकेगी। शुक्रवार को उन्होंने नश्वर देह का त्याग किया। बनारस दिन ढले तक उनकी अंत्येष्टि में लगा रहा।

मैंने पहली बार बाबा के दर्शन 18 जून, 2012 को दिल्ली में किए थे। उस दिन जंतर-मंतर पर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के नेतृत्व में सांकेतिक धरने का अभियान था। मंच पर खचाखच भीड़ थी। आचार्य के पास स्वामी सानंद बैठे थे। बगल में काषाय वस्त्रों में बेजान से बाबा नागनाथ। मंच पर एक कोने में बैठा मैं उन्हें केवल देख सकता था। सैकड़ों गंगाभक्तों की भीड़ में उन तक पहुंचना संभव नहीं था। गंगा अभियान से जुड़े लोगों ने बताया कि इस आंदोलन में भाग लेने के लिए ही उन्हें विमान से लाया गया है। शाम को लौटने वक्त तक ऐसे हालात नहीं हुए कि मेरी उनसे बातचीत हो सके।

अगले महीने मैं उनसे मिलने बनारस पहुंचा था। आदि मणिकर्णिका की श्मशान भूमि के साथ ही  एक छोटे से पुराने मठ में वे अनशनरत थे। उनकी कुटिया में पहुंचने पर रोंगटे खड़े करने वाला दृश्य था। एक व्यक्ति उनके बेजान शरीर में टीका लगा रहा था। पूछने पर पता चला कि जबसे प्रशासन ने उनको चिकित्सा विज्ञान में प्रयोग का पात्र बनाया गया है, उनका शरीर बेजान होता जा रहा है। मैंने गौर से उनके हाथों की ओर देखा। वे बेजान पत्थर-से थे, जिन्हें मोड़ना तक मुमकिन नहीं था। थोड़ी देर बाद वे मेरी ओर मुखातिब ंहोकर बोले: ‘कौन कहता है, निगमानंद मर गया?’ यह सुन कर मैं हतप्रभ था। फिर उन्होंने जोश में कहा था, ‘मैं हूं निगमानंद।’ वह संवाद भूलने योग्य नहीं है।

बाबा नाNagnath_Jansattaगनाथ के बेजान शरीर से निकली बातें बेजान नहीं थीं, पर जड़त्व समाप्त करने में सक्षम भी नहीं साबित हुर्इं। आज हमारे नगर और नागरिक गंगा के साथ खड़े होने से पैदा होने वाली मुश्किलों का सामना करने से बचना चाहते हैं। अस्सी के दशक से ही सरकार गंगा के नाम पर लूट मचाने में लगी है। पिछले साल चिकित्सालय, मठ और कारागार के बीच चक्कर काटते सत्याग्रही सानंद का मोहभंग हुआ था। वे सरकार और आमजन दोनों की प्रतिक्रिया से दुखी थे। ठीक एक सौ साठ साल पहले 1854 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने गंगनहर बनाई थी। गंगा को बांधने का काम ब्रिटिश हुकूमत के लिए एक मुश्किल निर्णय साबित हुआ था। देश के अलग-अलग हिस्सों में जारी संघर्ष एकजुट हुए। पर तीन वर्ष बाद हुए सिपाही विद्रोह के बाद भी यह समस्या नहीं सुलझी। वर्षों बाद मदनमोहन मालवीय का नेतृत्व पाकर 1916 में गंगा आंदोलन परवान चढ़ा था।

निगमानंद और नागनाथ की शहादत के बाद गंगा मुक्ति संघर्ष में विभाजन रेखा खिंचती नजर आ रही है। सत्याग्रह करने वाले दो वर्ग हैं। इसमें एक ओर अण्णा हजारे और बाबा रामदेव जैसे खिलाड़ी हैं, तो दूसरी ओर निगमानंद और बाबा नागनाथ जैसे तपस्वियों के समर्थक। दो धु्रवों में बंटे इन आंदोलनों की कुंजी राजनीतिक-अर्थव्यवस्था के हाथों में है। ऐसी दशा में ‘गंगा राइट्स’ की मांग लेकर तपस्या करने वाले बाबा नागनाथ के सपनों के साथ सरकार कैसा व्यवहार करेगी?

 http://www.jansatta.com/index.php?option=com_content&view=article&id=73625%3A2014-07-15-20-22-48&catid=19%3A2009-09-11-07-45-38

 

One More Sacrifice

Kaushal Kishore

 

The story of self-sacrifice of Baba Naganath, the leader of Save Ganga Movement, is very tragic and painful. Naganath Tiwari (8.8.1971—11.7.2014) was born and brought up in Varanasi. He was a saint from the truth-seeking tradition of Gangaputra Nigmananda. He has started fasting on July 19, 2008[1] in the mutt at Manikarnika Ghat (Kashi) to restore the free-flow of the Holy Ganga. In the end it has proved to be the fast-unto-death. Naganath has resolved to continue fasting as long as the free-flowing of the river is not ensured and the problem of pollution is not settled finally. His physical condition was deteriorating repeatedly during the five years of regular fasting. He was moving frequently between hospital and monastery due to the kindness of the state administration. At last, his austerity ended after many years on July 11, 2014 in the Intensive Care Unit (ICU) like Nigmananda. This is another sacrifice in the Save Ganga Movement in last three years.

These couple of crusades are major setbacks in the Save Ganga Movement. Baba has expressed the pleasant surprise after the victory of Narendra Modi and his oath as the Prime Minister. He was overwhelmed with the imagination that good days will begin to turn up on 16th May 2014. He has expected that the new government will go to any extent to ensure the Aviral (free-flowing) Ganga and Nirmal (pollution-free) Ganga. But he was extremely unhappy when he saw nothing positive in the first budget of the new government. The problems arising out of the proposed tunnels in the Himalayas and spreading series of railway lines had been torturing him. He has failed to recover this grief and finally said goodbye to this mortal world. This painful end of the Gandhian satyagrahi is a symbol of the rude attack on the fundamental convictions of the constitution.

Three years ago the nation was burning on certain issues like the black money stashed abroad and the Jan Lokpal. The crusade of Nigmananda was a cause of big uproar during those days. But Baba Naganath remained on the margins like ever before. No one really cared for him. But the city of illumination, Kashi will never forget Baba Naganath and Swami Sananda. He gave up the mortal body on the Friday. The city of Benares remained occupied in his funeral by the end of the day.

First time I saw the Baba on June 18, 2012 in the national capital. That day there was a symbolic protest in the Ganga campaign at Jantar Mantar. It was led by Shankaracharya Swarupananda Saraswati. There was a packed crowd on the stage. Swami Sanand was sitting with the acharya. Baba Naganath was laying besides him. He looked more like a saffron clad lifeless body. I was sitting there in a corner of the same stage, but I could only see him. It was not possible to approach him in the crowd of hundreds of devotees of the Ganga. Agitators associated with the campaign told me that he has been brought in an aircraft only to take part in this protest. That evening I returned, since it was not possible to have a talk with him till the end of the day.

Next month, I reached Benares to meet him. He was fasting in the small and old mutt adjacent to the cremation ground of ancient Manikarnika Ghat. I encountered the horrible sight upon arriving that place. Someone was injecting a vaccine in his lifeless body. I have been informed that since the administration has made his body a tool eligible for use in medical research, the body is turning lifeless. I carefully looked at his hands. They were lifeless like the stone that was not even fit for body movement. After a while he turned to me, and asked, “Who says, Nigmananda is dead?” I was stunned to hear this. Then he continued, “I am the Nigmananda.” It is difficult to forget his dialogue.

The talks arising out of that lifeless body of Baba Naganath was not really lifeless, but they were also not able to conquer the prevailing hurdles. Today our city and citizens are not prepared to face the difficulties that arise due to their stand in favour of the Ganges. The government has been involved in sabotage since eighties on the name of the Ganga. While circling around the prison, hospital and mutt the scientist-turned-saint Swami Sanand became disillusioned last year. He was unhappy with both the government and the public on their responses. Exactly a hundred and sixty years ago, in 1854, the East India Company had built the Eastern Ganga Canal. The damming of Ganga proved to be a challenging and difficult decision of the British govt. It has united the diversified struggles scattered across the Indian subcontinent. Three years later it culminated into the Sepoy Mutiny, but this problem still remained unresolved. After many years the Ganga movement blossomed in 1916 on the initiatives of Madan Mohan Malaviya.

After the martyrdom of Nigamananda and Naganath a thin line of demarcation emerges that divides the Save Ganga Movement. There are two different types of people involved in this series of protest. On one hand there are certain players like Anna Hazare and Baba Ramdev, and on the other are supporters of ascetics like Nigmananda and Baba Naganath. The political-economy plays the key role in this movement that is divided into two poles today. Who knows, how the government will react on the dreams of Baba Naganath, who was doing austerity for the Ganga Rights?

This tribute to Baba Naganath was first published in Hindi Daily Jansatta on July 16, 2014 as Ek Aur Utsarg (One More Sacrifice)

 

 

[1] Just a day before (on July 18, 2008) the author of these lines finished writing the first edition of the volume i.e . The Holy Ganga